Skip to product information
  • Maun Muskaan Ki Maar (Paperback) (Paperback – 1 January 2020)
  • Maun Muskaan Ki Maar (Paperback) (Paperback – 1 January 2020)
  • Maun Muskaan Ki Maar (Paperback) (Paperback – 1 January 2020)
  • Maun Muskaan Ki Maar (Paperback) (Paperback – 1 January 2020)
1 of 4

ASHUTOSH RANA

Maun Muskaan Ki Maar (Paperback) (Paperback – 1 January 2020)

Regular price Rs. 300.00
Regular price Sale price Rs. 300.00
Sale Sold out
Inclusive of all taxes . Shipping calculated at checkout

OFFERS & DEALS

AmazonFlipkart

Cash on Delivery Not Available

मैंने और अधिक उत्साह से बोलना शुरू किया, ‘‘भाईसाहब, मैं या मेरे जैसे इस क्षेत्र के पच्चीस-तीस हजार लोग लामचंद से प्रेम करते हैं, उनकी लालबत्ती से नहीं।’’ मेरी बात सुनकर उनके चेहरे पर एक विवशता भरी मुसकराहट आई, वे बहुत धीमे स्वर में बोले, ‘‘प्लेलना (प्रेरणा) की समाप्ति ही प्लतालना (प्रतारणा) है।’’ मैं आश्चर्यचकित था, लामचंद पुनः ‘र’ को ‘ल’ बोलने लगे थे।

इस अप्रत्याशित परिवर्तन को देखकर मैं दंग रह गया। वे अब बूढ़े भी दिखने लगे थे। बोले, ‘‘इनसान की इच्छा पूलती (पूर्ति) होना ही स्वल्ग (स्वर्ग) है, औल उसकी इच्छा का पूला (पूरा) न होना नलक (नरक)। स्वल्ग-नल्क मलने (मरने) के बाद नहीं, जीते जी ही मिलता है।’’ मैंने पूछा, ‘‘फिर देशभक्ति क्या है?’’ अरे भैया! जरा सोशल मीडिया पर आएँ, लाइक-डिस्लाइक (like-dislike) ठोकें, समर्थन, विरोध करें, थोड़ा गालीगुप्तार करें, आंदोलन का हिस्सा बनें, अपने राष्ट्रप्रेम का सबूत दें। तब देशभक्त कहलाएँगे।

बदलाव कोई ठेले पर बिकनेवाली मूँगफली नहीं है कि अठन्नी दी और उठा लिया; बदलाव के लिए ऐसी-तैसी करनी पड़ती है और की पड़ती है। वरना कोई मतलब नहीं है आपके इस स्मार्ट फोन का। और भाईसाहब, हम आपको बाहर निकलकर मोरचा निकालने के लिए नहीं कह रहे हैं; वहाँ खतरा है, आप पिट भी सकते हैं।

यह काम आप घर बैठे ही कर सकते हैं, अभी हम लोगों ने इतनी बड़ी रैली निकाली कि तंत्र की नींव हिल गई, लाखों-लाख लोग थे, हाईकमान को बयान देना पड़ा।

मैंने कहा कि यह सब कहाँ हुआ, बोले कि सोशल मीडिया पर इतनी बड़ी ‘थू-थू रैली’ थी कि उनको बदलना पड़ा। प्रसिद्ध सिनेमा अभिनेता आशुतोष राणा के प्रथम व्यंग्य-संग्रह ‘मौन मुस्कान की मार’ के अंश|

  • ASIN ‏ : ‎ 9352669827
  • Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan; First edition (1 January 2020); Prabhat Prakashan - Delhi
  • Language ‏ : ‎ Hindi
  • Paperback ‏ : ‎ 200 pages
  • ISBN-10 ‏ : ‎ 9789352669820
  • ISBN-13 ‏ : ‎ 978-9352669820
  • Item Weight ‏ : ‎ 180 g
  • Dimensions ‏ : ‎ 20 x 14 x 4 cm
  • Country of Origin ‏ : ‎ India
  • Net Quantity ‏ : ‎ 1 Count
  • Importer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan - Delhi
  • Packer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan - Delhi
  • Generic Name ‏ : ‎ Books

Refund & Exchange policy

We have a 7-day return policy, which means you have 7 days after receiving your item to request a refund / exchange.

To be eligible for a refund / exchange, your item must be in the same condition that you received it, unworn or unused, with tags, and in its original packaging.

Opened electronic items and appliances cannot be returned or exchanged.

Customer Reviews

No reviews yet
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
  • Search, Compare, Buy

    A platform for product selection, price comparison and bargain shopping.

  • Hassle-Free Shopping

    Bonuses, discounts, free shipping and much more directly on the Marketplace.